SATNA : मासूम शिवकांत के हत्यारों को DSP डॉग सायरा ने 'दिलवायी' फांसी और उम्र कैद की सजा

SATNA : मासूम शिवकांत के हत्यारों को DSP डॉग सायरा ने ‘दिलवायी’ फांसी और उम्र कैद की सजा

सतना. सतना के रहिकवारा में करीब ढाई साल पहले 6 साल के मासूम के अपहरण और हत्या (Kidnap and Murder) के सनसनी खेज केस में अदालत ने आज सजा का ऐलान कर दिया. अपर सत्र न्यायाधीश विजय डांगी ने दोनों अभियुक्तों में एक को फांसी और महिला को आजीवन कारावास की सजा सुनाई हैं. बच्चे की हत्या के दोषी अनुताब को फांसी की सजा सुनाई गयी. उसकी मदद करने वाली महिला को उम्र कैद की सजा दी गयी है.

एजीपी राजेश मिश्रा के अनुसार ये जघन्य हत्याकांड दो साल पहले का है. 12 मार्च 2019 को नागौद थाना क्षेत्र के रहिकवारा में घर के बाहर खेल रहे 6 वर्षीय मासूम शिवकांत उर्फ लल्ली का फिरौती के लिए अपहरण कर उसकी हत्या कर दी गयी थी.

फांसी की सजा
लगभग ढाई वर्ष पुराने इस मामले में सुनवाई पूरी करते हुए अपर सत्र न्यायाधीश नागौद विजय डांगी ने अनुताब प्रजापति पिता बुलाई को दोषी पाते हुए मौत की सजा सुनाई है. इस हत्याकांड में अनुताब के साथ शामिल रही विभा प्रजापति पत्नी श्यामाचरण को उम्र कैद से दंडित किया गया है. इनके विरुद्ध भादवि की धारा 364 ए,120 बी,302 एवं 201 का अपराध प्रमाणित पाया गया था. अदालत ने सुनवाई पूरी कर सजा के ऐलान के लिए 15 सितंबर की तारीख मुकर्रर की थी. आज बुधवार को दोषी अनुताब को फांसी और विभा उर्फ विद्या को आजीवन कारावास और 10 हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई.

ये भी पढ़िए- MP : ये परीक्षा पास कीजिए और रामलला के दर्शन के लिए जीतिए टिकट TO अयोध्या

वीसी के जरिये सजा का ऐलान
अपर सत्र न्यायाधीश ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये मासूम के अपहरण और हत्या के मामले में फांसी की सजा सुनाई. दोषी अनुताब जेल में बंद हैं. उसे वीसी के माध्यम से कोर्ट रूम से जोड़ा गया.

2 लाख के लिए किया था मासूम का कत्ल
लगभग ढाई वर्ष पहले 12 मार्च 2019 को शिवकांत उर्फ लल्ली अपने घर के बाहर खेल रहा था. तभी उसका अनुताब और विद्या दोनों ने मिलकर अपहरण कर लिया था. उसके बाद इन लोगों ने उसी दिन शाम करीब 5 बजे शिवकांत के चाचा इंद्रजीत को फोन कर 2 लाख रुपये फिरौती मांगी. लेकिन तब तक बच्चे के परिवार वाले थाने में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा चुके थे. थाना में रिपोर्ट दर्ज हो जाने के बाद आरोपी डर गए और फिरौती मिलने के पहले ही रस्सी से मासूम का गला घोंट कर उसकी हत्या कर दी. उसके बाद शव को बोरी में भरकर नजदीक के एक नाले में फेंक दिया था.

नाले में मिली थी लाश
पुलिस ने तेजी से जांच की तो वो आरोपियों तक पहुंच गयी. उनकी निशानदेही पर नाले से बच्चे का शव भी बरामद कर लिया गया. हत्यारे अनुताब ने फिरौती के लिए फोन करने के लिए विद्या उर्फ विभा प्रजापति के मोबाइल सिम का उपयोग किया था. इसके एवज में उसे 10 हजार रुपये दिए थे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

Add comment

Your Header Sidebar area is currently empty. Hurry up and add some widgets.