Diabetes : ब्‍लड शुगर कंट्रोल करने में फायदेमंद हैं रसोई में मौजूद ये 6 मसाले

Diabetes : ब्‍लड शुगर कंट्रोल करने में फायदेमंद हैं रसोई में मौजूद ये 6 मसाले

Spices Beneficial in Diabetes : भारत में 7.7 करोड़ से अधिक वयस्क डायबिटीज (Diabetes) के साथ जी रहे हैं. शोधकर्ताओं का अनुमान है कि 2045 तक यह संख्या बढ़कर 13.4 करोड़ हो जाएगी. जानकर बताते हैं कि अगर नियमित व्यायाम किया जाए और खान-पान पर कंट्रोल किया जाए, तो इस बीमारी को बढ़ने से रोका जा सकता है. वैसे तो हमारे किचन में ही कई तरह के मसाले और जड़ी बूटी है, जो हमें फिट और हेल्दी रखते हैं. क्योंकि इनमें इम्यूनिटी को मजबूत बनाए रखने के गुण होते हैं. इनमें से कुछ मसाले ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल लेवल को प्रभावी तरीके से मैनेज करने के लिए जाने जाते हैं.

तो हम अपनी दादी-नानी के नुस्खों की पोटली से निकले, ऐसे ही कुछ अद्भुत मसालों के बारे में बताते हैं, जिन्हें आप ब्लड शुगर लेवल नॉर्मल करने और कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने के लिए अपनी डेली डाइट में शामिल कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें- कोरोना से लंबे समय तक बीमार रहने वालों में डिमेंशिया का खतरा: रिसर्च

लौंग (Cloves)
दांत में दर्द और सर्दी-खांसी, जुखाम के इलाज में लौंग एक शानदार चीज उपचार है. लेकिन डायबिटीज के इफैक्ट को कम करने के लिए आप अपने खाने में एक या दो लौंग का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसमें मौजूद एंटीइंफ्लेमेट्री, जर्मिसाइडल और एनाल्जेसिक इफैक्ट न केवल ब्लड शुगर को कंट्रोल करने, बल्कि इंसुलिन उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए भी जानी जाती है.

काली मिर्च (Black Pepper)
काली मिर्च एंटीऑक्सीडेंट का जाना माना सोर्स है और ये आपकी बॉडी को हेल्दी रखने में कारगर है. अगर आप डेली इसे अपने खाने में शामिल करते हैं तो यह बॉडी को फैट सेल्स को ब्रेक करने में सक्षम बनाती है. यह बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में भी कारगार साबित हुई है.

यह भी पढ़ें- कोरोना खत्म होने को लेकर अगर मन में हैं सवाल, जानें क्या कहते हैं वैज्ञानिक

दालचीनी (Cinnamon)
हेल्दी रहने के लिए दालचीनी की चाय पीना सबसे अच्छा ऑप्शन है. दालचीनी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटीमाइक्रोबियल गुण इसकी एंटीडायहेरियल एक्टिविटी (Antidiarrheal activity) के साथ इनर सिस्टम में किसी भी रुकावट को दूर करने में मदद करते हैं. इससे शरीर को अपने कोलेस्ट्रॉल और बॉडी में ब्लड सकुर्लेशन में सुधार करने का अच्छा मौका मिल जाता है. एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण इसमें बेहतर इंसुलिन बनाने की क्षमता होती है.

मेथी दाना (Fenugreek seeds)
पबमेड सेंट्रल (PubMed Central) की स्टडी के अनुसार रोजाना कम से कम 1 ग्राम मेथी का अर्क ब्लड शुगर लेवल को कम कर सकता है. खासकर डायबिटीज रोगियों में.  सदियों से इसका इस्तेमाल स्वास्थ्य को ठीक रखने के लिए किया जा रहा है. मेथी के बीज में फाइबर की मात्रा अधिक होती है. यह फाइबर शरीर को कम कार्बोहाइड्रेट को अवशोषित करने में मदद करता है. इसके अलावा यह पाचन को धीमा करके और शरीर के ग्लूकोज सहनशीलता के स्तर में सुधार करके ब्लड शुगर लेवल को भी प्रोत्साहित करता है.

हल्दी (Turmeric)
हल्दी को इसके नेचुरल एंटीइंफ्लेमेट्री गुणों के कारण अपने आहार में शामिल करना चाहिए. इसमें औषधीय गुणों  (medicinal properties) वाले कई कंपाउंड होते हैं, जिनमें सबसे जरूरी है करक्यूमिन (Curcumin). यह एक ऐसा पॉवरफुल एंटीऑक्सीडेंट है, जो ब्लड शुगर लेवल को भी कम करने में मदद करता है. डायबिटीज से जुड़ी जटिलताओं को कम करने के लिए हल्दी वाला दूध पीना अच्छा है.

तुलसी (Basil)
भारत के लगभग हर घर में तुलसी का पौधा होता है. इसे यहा एक जड़ी-बूटी माना जाता है. इसके बहुत से औषधीय लाभ हैं. यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में सुधार के अलावा शरीर को मजबूत बनाने और ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित रखने में भी मदद करती है. अच्छे परिणामों के लिए पवित्र तुलसी को भोजन से पहले और बाद में खाना चाहिए. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

Add comment

Your Header Sidebar area is currently empty. Hurry up and add some widgets.