4 सालों में प्रदेश में व्यापक परिवर्तन, वैश्विक स्तर पर दिख रही भारतीय संस्कृति: CM योगी

4 सालों में प्रदेश में व्यापक परिवर्तन, वैश्विक स्तर पर दिख रही भारतीय संस्कृति: CM योगी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी में रविवार (5 सितंबर 2021) को शिक्षक दिवस के मौके पर ‘प्रबुद्ध सम्मेलन’ को संबोधित किया। उन्होंने काशी को लेकर कहा कि यहाँ देश में वर्ष 1947 से सरकारें आ रही हैं और जा रही हैं, लेकिन सभी एक सीमित सोच लेकर आईं। किसी ने भी काशी की महत्ता को समझने की कोशिश नहीं की ।

सीएम ने कहा कि एक सरकार ऐसी भी आई थी, जिसने सोमनाथ मंदिर के कार्यों का विरोध किया था और एक य़े सरकार है जो कि राम मंदिर बनवाने के लिए काम कर रही है। अपने भाषण के दौरान मुख्यमंत्री ने कुम्भ मेले और उससे पहले आयोजित किए गए प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन का जिक्र किया। उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री ने मुझे बुलाया और पूछा कि प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन का आयोजन दिल्ली के बजाय काशी में हो सकता है। मैंने कहा कि बिल्कुल हो सकता है तो पीएम ने मुझे इस संबंध में विदेश मंत्रालय से बात करने को कहा। विदेश मंत्रालय के अधिकारियों को लगता था कि वाराणसी में होटल नहीं होने के कारण प्रवासी लोग कहाँ रुकेंगे तो हमने कहा कि वो धर्मशाला में रुकेंगे। इसके बाद हमने काशी में ‘टेंट सिटी’ तैयार कर दी और ये काशी का महत्व है कि जिन्हें हमने होटलों में रुकवाया था वो भी होटल छोड़कर टेंट में आ गए थे।”

CM योगी ने कहा, “पूर्व की सरकारें संकीर्ण एजेंडे के साथ आती थीं, इसे काशी ने महसूस किया होगा। काशी एक नया उदाहरण जन्म से अंतिम यात्रा तक बनी है। यही विकास पूरे प्रदेश के विकास का आधार था।”

उत्तर प्रदेश ने कुम्भ औऱ प्रवासी भारतीय सम्मेलन का आयोजन कर पीएम के विजन को सार्थक किया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आजादी के बाद भारतीयता को मानने वाले लोगों के मनोबल पर ठेस पहुँचाने की कोशिश की गई। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय आस्था और संस्कृति की आत्मा की पहचान वाले देश के स्थानों को वैश्विक स्तर पर दिखाया गया।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी से राधा कृष्ण का सम्बंध है। इसके निर्माण में सभी का योगदान अविस्मरणीय बीएचयू परिवार मानता है। सनातन धर्म का केंद्र काशी प्राचीन काल से रहा है। काशी को जानने व देखने की उत्सुकता सदा से बनी रही है। लोग इसके भौतिक स्वरूप नहीं देख पाते थे। पिछले सात वर्षों से काशी अपने नए कलेवर के रूप में पुरातन कलेवर का स्वरूप बनती जा रही है। 

महात्मा गाँधी को लेकर सीएम य़ोगी आदित्यनाथ ने कहा कि महात्मा गाँधी ने वर्ष 1916 में काशी की गंदगी को दुनिया के सामने रखा था, लेकिन आज काशी नए कलेवर में प्रस्तुत है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि दंगों के बिना कोई त्योहार नहीं होता था, चार सालों में प्रदेश में व्यापक परिवर्तन दिखाई पड़ रहा है। सभी ने अपने क्षेत्र में कार्य किया। उत्तर प्रदर्श के बारे में जो गलत धारणाएं थीं वे चार सालों में सही हुई हैं।

Source link

Add comment

Topics

Recent posts

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.

Most popular

Most discussed