कमर की चर्बी नहीं घटती तो तेज दौड़ लगाकर करें फैट बर्न, जानें दौड़ने का सही तरीका

कमर की चर्बी नहीं घटती तो तेज दौड़ लगाकर करें फैट बर्न, जानें दौड़ने का सही तरीका

Burn Waist Fat By Running Fast : कई लोगों की यह समस्‍या होती है कि वे पूरे शरीर का फैट तो मेहनत कर बर्न कर लेते हैं लेकिन कमर की चर्बी (Waist Fat) काफी मेहनत के बाद भी नहीं घटती. अगर आप भी इस समस्‍या से परेशान हैं तो आपको बता दें कि एक शोध में यह पाया गया है कि तेज दौड़ लगाकर कई गुना तेजी से कमर की चर्बी को कम (Fat Burn) किया जा सकता है. दैनिक भास्‍कर में छपी एक खबर में यह बताया गया है कि ब्रिटिश जर्नल ऑफ स्‍पोट्स मेडिसिन के अनुसार हाई इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग की मदद से कमर की चर्बी को 29 प्रतिशत अधिक घटाया जा सकता है. खबर के मुताबिक, मैकमास्‍टर युनिवर्सिटी के प्रो. मार्टिन गिबाला का कहना है कि अगर रोज 20 मीटर की 8 से 10 दौड़ लगाई जाए तो इसे तेजी से घटाया जा सकता है. आपको बता दें कि कमर के पास पाई जाने वाली अतिरिक्त चर्बी को अगर ना घटाया जाए तो कई गंभीर डिजीज जैसे हार्ट डिजीज, डायबिटीज, यहां तक कई तरह के कैंसर तक होने की आशंका बन जाती है.

इसे भी पढ़ें : ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या से लाइफ टाइम बचना है तो लाइफ स्टाइल में शामिल करें ये चीज़ें

 

हाई इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग के तहत सही रनिंग के लिए इन 3 बातों को करें फॉलो

1.वार्म अप जरूरी

जब भी आप तेज दौड़ शुरू करने जाएं तो पहले लगभग 10 से 15 मिनट तक वार्मअप जरूर करें. आप अपने सभी ज्‍वाइंट्स को पहले घुमाएं और इसके बाद हल्‍की धीमी गति से जॉगिंग करें. ऐसा करने से आपको क्रैम्‍प की समस्‍या नहीं होगी और बॉडी पूरी तरह से तेज रनिंग के लिए तैयार हो जाएगी. ऐसा करने से आप इंज्‍युरी से बचे रहेंगे.

3.जानें दौड़ का सही तरीका

जब भी दौड़ें तो यह ध्‍यान रखें कि दौड़ते समय आपके पंजे जमीन को पहले टच करते हों. जबकि अगला पैर सीधा सामने की तरफ जाता हो.  यह भी ध्‍यान रखें कि हाथ तेजी से आगे पीछे हो रहे हों. अगर आप नया नया यह सब कर रहे हैं तो शुरुआत में अधिक दौड़ ना लगाएं. हर दौड़ के बीच रेस्ट लें और अगली दौड़ के लिए तैयार हो जाएं.

इसे भी पढ़ें : कभी पी है काली मिर्च की चाय? मूड बूस्‍ट करने के साथ वजन भी करती है कम

हार्ट रेट पर भी रखें ध्‍यान

जब भी दौड़ लगाएं तो अपने हार्ट रेट को मॉनीटर करें. हार्ट रेट कैलकुलेट करने का एक तरीका होता है. सबसे पहले आप अधिकतम हार्ट रेट 220 में से अपनी उम्र को घटाएं और उतना ही हार्टरेट मेंटेन करें. उदाहरण के लिए अगर आपकी उम्र 40 है तो अधिकतम हार्ट रेट 220 में से 40 घटाएंगे तो 180 होगा. यानी इस हिसाब से 80% क्षमता यानी हार्ट रेट 160 से अधिक हार्ट रेट ना जानें दें. इसके लिए मोबाइल ऐप या स्‍मार्ट वॉच की मदद ले सकते हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

Add comment

Your Header Sidebar area is currently empty. Hurry up and add some widgets.