एनर्जी बूस्ट करने वाला पॉवर हाउस है मोरिंगा, याददाश्त तेज करने के साथ ये भी हैं फायदे

एनर्जी बूस्ट करने वाला पॉवर हाउस है मोरिंगा, याददाश्त तेज करने के साथ ये भी हैं फायदे

Health benefits of moringa: कोरोना महामारी के बाद हर जगह इम्युनिटी बूस्ट करने के तरीके अपनाए जा रहे हैं. लोग हर तरह से अपना इम्युनिटी बूस्ट करने में लगे हैं. इसलिए अधिकांश लोग अपने भोजन में पौधे से प्राप्त भोजन (plant-based diet ) को अपनी आहार में शामिल करने लगे हैं. पौधे से प्राप्त भोजन में ज्यादा विटामिन, मिनरल आदि कई पोषक तत्व पाए जाते हैं. पौधों में एक नाम है मोरिंगा जिसमें कई तरह के पोषक तत्वों का खजाना है. आमतौर पर दक्षिण भारत में इसका ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है. मोरिंगा को स्पिरुलिना भी कहा जाता है. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार आयुर्वेदिक डॉक्टर अभिषेक कुमार बताते हैं, कोरोना महामारी के दौर में मोरिंगा पोषक तत्व और इम्युनिटी के लिए सबसे बेहतर विकल्प हो सकता है. यह एंटीऑक्सीडेंट का पॉवर हाउस है. इसलिए मोरिंगा के पौंधे को चमात्कारिक पौधा माना जाता है. मोरिंगा में विटामिन, मिनरल, कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन और कई अन्य तत्व पाए जाते हैं. मोरिंगा घातक बैक्टीरिया से शरीर की रक्षा करता है. डॉ अभिषेक बताते हैं कि मोरिंगा से लीवर फंक्शन बेहतर होता है और हड्डियों में मजबूती आती है.

इसे भी पढ़ेंः मन की नीरसता को कम करने के लिए करें ये 5 काम, ऐसे मिलेगा फायदा

खाने के अलावा मोरिंगा के कई और काम

इस पौधे से बनी चीजों को न सिर्फ खाया जाता है बल्कि कई सांस्कृतिक उत्सवों में इसका इस्तेमाल किया जाता है. मोरिंगा की हर चीज का इस्तेमाल किया जाता है. इसकी पत्तियों को सुखाकर पकाया जाता है फिर खाया जाता है जबकि इसके बीज और छाल से बारीक चूर्ण भी बनाया जाता है. इसकी लकड़ी से कागज बनाया जाता है. यह बाजार में टैबलेट के रूप में भी बिकता है. दूसरी ओर इस पौधे की छाल में प्रचूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है. इसकी छाल का इस्तेमाल चटाई बनाने में किया जाता है. दक्षिण भारत के भोजन सांभऱ, कड़ी, अचार आदि में मोरिंगा के पौधे का खूब इस्तेमाल होता है.

इसे भी पढ़ेंः टेंशन-डिप्रेशन कम करने में ही नहीं, मनोवैज्ञानिक ‘जख्म’ भरने में भी सफल है डांस थेरेपी

मोरिंगा से क्या-क्या फायदे
डॉक्टर अभिषेक कुमार के मुताबिक मोरिंगा में दूध की तुलना में 17 गुना ज्यादा कैल्शियम पाया जाता है जबकि गाजर की तुलना में 10 गुना ज्यादा विटामिन ए पाया जाता है. इसी तरह संतरे की तुलना में 7 गुना ज्यादा विटामिन सी और पालक की तुलना में 25 गुना ज्यादा आयरन पाया जाता है. इसलिए कुपोषण से लड़ने में मोरिंगा सबसे बेहतर चीज है.

मोरिंगा स्किन और बालों के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद है. मोरिंगा में टॉक्सिन को खत्म करने की क्षमता है. इसलिए यह बालों के नीचे रोम छिद्र (hair follicles) को साफ करता है. मोरिंगा चेहरे पर किसी तरह के दाग-धब्बे को जड़ से खत्म कर देता है. मोरिंगा की पत्ती का इस्तेमाल कई तरह के कॉस्मेटिक प्रोडक्ट में किया जाता है.

मोरिंगा दिमाग को हेल्दी और याददाश्त को तेज करता है. मोरिंगा में एक प्रकार का प्रोटीन जिसका नाम ट्रिप्टोफेन (Tryptophan) है, मौजूद रहता है जो दिमाग में याददाश्त वाले उतकों को सक्रिय कर देता है. यह ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को भी कम करता है.

मोरिंग मोटापे की समस्या को भी कम कर सकता है. इसमें कोलेस्ट्रॉल बहुत कम पाया जाता है. यह शरीर में ऊर्जा को कम किए बिना वजन घटाने में सहायक है. मोरिंगा के सेवन से व्यक्ति खुश और तरो-ताजा रहता है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

Add comment

Topics

Recent posts

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.

Most popular

Most discussed