आयरन सप्लीमेंट का बच्चों के विकास और मानसिक क्षमता में नहीं होता फायदा: रिसर्च

आयरन सप्लीमेंट का बच्चों के विकास और मानसिक क्षमता में नहीं होता फायदा: रिसर्च

Iron Supplement : बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास को तेज करने के नाम पर इन दिनों बाजार में कई प्रकार के फूड सप्लीमेंट (Food Supplements ) मौजूद है. इसके आकर्षक विज्ञापन और तुरंत फायदा पहुंचाने वाले दावों पर भरोसा कर लोग इनका खूब यूज भी कर रहे हैं. लेकिन बांग्लादेश के ग्रामीण इलाकों में की गई स्टडी में ये बात सामने आई है कि आयरन सप्लीमेंट छोटे बच्चों को भले एनीमिया (Anemia) दूर करने में मददगार है, लेकिन उनके विकास और मानसिक क्षमता या व्यवहार पर उसका कोई असर नहीं होता है. बता दें कि बच्चों में एनीमिया (खून की कमी)  की रोकथाम के लिए दुनियाभर में वैश्विक गाइडलाइंस के तहत आयरन सप्लीमेंट दिया जाता है.

दैनिक जागरण में छपी खबर के अनुसार, यह स्टडी न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन (New England Journal of Medicine) में 9 सितंबर को प्रकाशित हुई है. इस स्टडी के तहत आयरन सप्लीमेंट का बच्चों की मानसिक क्षमता या व व्यवहार तथा विकास पर प्रभाव का आंकलन किया गया है.

Dead Butt Syndrome: आपके बट को भूलने की बीमारी तो नहीं? क्या है ‘डेड बट सिंड्रोम’, जानें

ऑस्ट्रेलिया के वाल्टर एंड एलिजा हाल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल रिसर्च (WEHI) तथा बांग्लादेश के इंटरनेशनल सेंटर फॉर डायरियल डिजीज रिसर्च के रिसर्चर्स ने 8 महीने के 3300 बच्चों को आयरन ड्रॉप और होम फोर्टिफिकेशन पैकेट उपलब्ध कराए.उन्होंने पाया कि इन दोनों ही उपायों का बच्चों के विकास में कोई असर नहीं रहा, हालांकि एनीमिया की स्थिति जरूर सुधरी. शोधकर्ताओं ने बच्चों की मानसिक (संज्ञात्मक) तथा तंत्रिका विकास (Neural Development) के साथ ही उनके विकास (लंबाई और वजन) का विश्लेषण किया. उन्होंने पाया कि आयरन सप्लीमेंट का इन गतिविधियों पर कोई असर नहीं हुआ.

वैश्विक पोषण नीति का बन सकता है आधार
WEHI के एसोसिएट प्रोफेसर सेंट रेयन पसरीचा का कहना है कि उनकी ये स्टडी वैश्विक पोषण नीति निर्धारण में बड़ा बदलाव ला सकती है. उन्होंने कहा, हम दुनियाभर में दशकों से छोटे बच्चों को आयरन सप्लीमेंट यह मानकर देते आ रहे हैं कि इसका उनके विकास पर सकारात्मक असर होता है. लेकिन इसका कोई प्रमााण नहीं कि यह विकास में वाकई में फायदेमंद है. हमने अपनी स्टडी में यही दर्शाया है कि आयरन सप्लीमेंट से बच्चों में एनीमिया की स्थिति तो सुधरती है, लेकिन इसका बच्चों के संज्ञात्मक गतिविधियों और व्यवहार या विकास पर कोई असर नहीं होता है. इस बात की भी पड़ताल की गई कि क्या आयरन सप्लीमेंट का कुछ दुष्प्रभाव भी हुआ है.

यह भी पढ़ें- डायबिटीज पेशेंट के लिए ये 4 सब्जियां हैं बहुत फायदेमंद

कुछ बच्चों को नुकसान ज्यादा हुआ
रिपोर्ट में आगे लिखा है,  इंटरनेशनल सेंटर फॉर डायरियल डिजीज रिसर्च के जेना हमदानी ने बताया कि कुछ बच्चों में तो आयरन सप्लीमेंट का फायदा से ज्यादा नुकसान ही हुआ है. उन्होंने बताया कि जिन बच्चों को एनीमिया नहीं था और उन्हें आयरन सप्लीमेंट दिया गया, तो ज्यादा बीमार पड़े और डायरिया की वजह से उन्हें बार बार डॉक्टर के पास ले जाना पड़ा. ऐसा संभवत: आयरन सप्लीमेंट की वजह से हुआ और इस तरह यह सप्लीमेंट फायदा पहुंचाने से ज्यादा नुकसान कर गया.

बरतें सावधानी
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) उन कम या मध्यम आय वर्ग वाले देशों में सभी बच्चों को आयरन सप्लीमेंट देने की सिफारिश करता है, जहां एनीमिया बहुत की सामान्य है, लेकिन WEHI के रेयन पसरीचा पसरीचा कहते हैं, हमें इस स्टडी के आधार पर ऐसे सप्लीमेंट देने को लेकर सावधानीपूर्वक पुनर्विचार करने की जरूरत है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

Add comment

Your Header Sidebar area is currently empty. Hurry up and add some widgets.